Poem by Priyanshu Sahay (Class 12)

जादुई मूरत

पॅंहुच न पाया जब,
खुदा खुद हर जगह,
तब उसने कर दिया,
एक अनोखी दास्ताॅं।

मतलब से बनी इस दुनिया में,
प्यार से न रहे कोई अजाॅं,
इसलिए हर एक के लिए भेजा
इसने एक सुंदर और प्यारी माॅं।

परेशानियों की बेड़ियों से बंधकर भी,
हमें सिखाती है खुलकर जीना,
जाने किस जादू से,
कर देती है हर मुश्किल आसाॅं।

दीपक सा जलकर जिसने
हमारे जीवन को रोशनी दान।
ममतर की मूरत को पूजकर ही,
हम बनेगें एक अच्छे इंसान।

उसके लिए में सिर्फ प्यार ही प्यार है
जाने किस गुल्लक में करती है इतना प्यार जमा?
माॅं एक शब्द में ही
बसा है ये सारा जहाॅं।

प्रियांशु सहाय ( कक्षा १२ )

Poem by Priyanshu Sahay (Class 12)

मेरे पापा

जिंदगी के एक वीरान मोड़ पर
सूरज मेरे सिर पर था,
फिर अचानक से मुझ पर,
एक ठंडा-सा छाया आया।

मैने पीछे मुड़कर देखा,
वो खड़े थे मेरे पापा,
ईश्वर की अनमोल देन,
जिसने ऊॅंगली पकड़कर मुझे चलना सिखाया।

मुॅंह फुलाकर बैठा था मैं,
तो घोड़ा बनकर मुझे मनाया
बचपन की हर जिद को
चाॅंद खिलौनो से पूरा किया।

टी.वी. की हर एक धुन
उनके कदमों से दब जाती है,
उनके रहते मेरे पास
मुश्किल आने से घबराती है।

पिता से है नाम मेरा,
उन्होने ही आज मुझे बनाया,
सुपरहीरो से भी बढ़कर हैं,
मेरे लिए ”मेरे पापा“

प्रियांशु सहाय ( कक्षा १२ )

Academic Achievement

We are humbled and honoured by the achievements of Ms. Tanu who scored an aggregate of 93% in Bio Stream and earned a place in the top 10 academic achiever’s of UPS. Due to avoidable clerical error her name could not be featured in the media coverage. We are therefore dedicating this post to Ms Tanu to be able to extend our congratulations to her family and friends.

Academic Achievement

We are humbled and honoured by the achievements of Ms. Pragati Singh who scored an aggregate of 90.4% in Science Stream and earned a place in the top 10 academic achiever’s of UPS.
We are dedicating this post to Ms. Pragati Singh to be able to extend our congratulations her family and friends.